antibody definition | structure

 प्रतिरक्षियों के प्रकार (Type of antibodies )

प्रतिरक्षी को इम्यूनोग्लोबिन (संक्षिप्त Ig) भी कहा जाता है। ये प्लाज्मा कोशिकाओं द्वारा निर्मित गामा ग्लोबुलिन (y-globulin) प्रोटीन हैं जो प्राणियों के रक्त तथा अन्य तरल पदार्थों में पाए जाते है। प्रतिरक्षी, प्रतिजन को पहचानने तथा निष्प्रभावी करने हेतु प्रतिजन से क्रिया करते हैं। प्रतिरक्षी का वह भाग जो प्रतिजन से क्रिया करता है पैराटोप (Paratop) कहलाता है।
प्रतिरक्षियों में पांच प्रकार की भारी पॉलिपेप्टाइड क्ष्रंखलाएँ पाई जाती है। इन्हें यूनानी भाषा के अक्षरों (Alpha),(Gamma), (Delta), (Epsilon) तथा (mu) द्वारा दर्शाया जाता है। भारी क्ष्रंखला के आधार पर प्रतिरक्षी पाँच प्रकार के होते है

Type of antibodies




IgA  प्रतिरक्षी एक द्विलक (Dimeric) है।
IgM प्रतिरक्षी एक पंचलक (pentameric) है।
IgG, IgE और IgD प्रतिरक्षी एकलक या मोनोमेरिक (Monomeric) होती है।
IgG देह की प्रमुख संवहनीय प्रतिरक्षी है तथा रक्त एवं अन्य द्रव्यों में उपस्थित होती है।
 एकमात्र IgG प्रतिरक्षी है जो आवँल (placenta) को पार कर भ्रूण तक पहुँच सकती है। लाल रक्त कोशिकाओं में रक्त अपघटन (Hemolysis) कर सकते है जो नवजात शिशु में Homocytic नामक रोग का कारण बन जाता है। जिसके कारण शिशु के रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की  कमी हो जाती है
सीरम में पायी जाने वाली प्रतिरक्षियों में IgG की सांद्रता सर्वाधिक होती है।
IgM प्रतिजन की अनुक्रिया से उत्पादित प्रथम प्रकार की प्रतिरक्षी है।
IgG का उत्पादन IgM के उत्पादन के पश्चात होता है।
IgA माँ के दूध में पाया जाने वाला अकेला प्रतिरक्षी है। यह नवजात शिशु की प्रतिरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।
IgE प्रतिरक्षी प्राथमिक रूप से बेसोफिल तथा मास्ट कोशिका पर क्रिया करता है तथा प्रत्युर्जता या एलर्जी (Allergy) क्रियाओं में हिस्सा लेती है।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comments box.

Previous Post Next Post