अयादि संधि: परिभाषा, नियम और उदाहरण Ayaadi sandhi [Hindi grammar]

अयादि संधि एचोऽयवायाव: परिभाषा, नियम और उदाहरण


 यदि प्रथम पद के अंत में ए, ए, ओ, और में से कोई एक स्वर आये तथा दूसरे पद के प्रारंभ में कोई स्वर वर्ण आये तो 'ए' को अय् , 'ऐ' को आय् , 'ओ' को अव् , तथा 'औ' को आव् हो जाता है।
अयादि संधि का संस्कृत में सूत्र “ एचोऽयवायाव:”
पहचान:- जिस शब्द में “अय् , आय् , अव् , आव् की ध्वनि आते तो वहां अयादि संधि होती है।
ए + कोई स्वर = अय्
ऐ + कोई स्वर = आय्
ओ + कोई स्वर = अव्
ओ + कोई स्वर = आव्
ए + कोई स्वर = अय्

चे + अन = चमन (ए+ कोई स्वर = आय्)
ने + अन = शयन (ए+ कोई स्वर = आय्)
संचे + अ = संचय (ए+ कोई स्वर = आय्)
विले + अ = विलय (ए+ कोई स्वर = आय्)
पो + अन = पवन (ए+ कोई स्वर = आय्)
ऐ + कोई स्वर = आय्
गै + अक = गायक (ऐ + कोई स्वर = आय्)
नै + अक = नायक
विधै + इका = विधायिका
नै + इका = नायिका
ओ + कोई स्वर = अव्
भो + अन = भवन
श्रो + अन = श्रवण
हो + इ = हवि
गो + ईश = गवीश
शो + अ = शव
ए + कोई स्वर = आय्
पौ + अक = पावक
नौ + इक = नाविक
प्रसौ + इका = प्रसाविका
भौ + अ = भाव
पौ + अन = पावन

संबंधित लेख अन्य लेख भी पढ़ें 

 ➡️ समास  ➡️ संधि ➡️ स्वर संधि ➡️ व्यंजन संधि ➡️ विसर्ग संधि  ➡️ वाक्यांश के लिए एक शब्द ➡️ पर्यायवाची शब्द ➡️ उपसर्ग ➡️ प्रत्यय ➡️ हिंदी पारिभाषिक शब्दावली ➡️ द्वद्व समास➡️ द्विगु समास ➡️ कर्मधारय समास ➡️ बहुव्रीहि समास➡️ अव्ययीभाव समास➡️ तत्पुरष समास ➡️ सज्ञां ➡️  सर्वनाम   ➡️ विशेषण ➡️  कारक  ➡️विलोम शब्द

Post a comment

0 Comments